Skip to main content

2019 में हुए ये फैसले जिन से हुआ देश को फायदा | RAJA SAHEB



 
अनुच्छेद 370

जम्मू-कश्मीर का जिक्र आते ही धारा 370 और 35ए की बात आ जाती थी. भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू-कश्मीर को विशेष स्वायत्तता मिली थी।
वहीं, 35A जम्मू-कश्मीर राज्य विधानमंडल को 'स्थायी निवासी' परिभाषित करने और उन नागरिकों को विशेषाधिकार प्रदान करने का अधिकार देता था।
यह भारतीय संविधान में जम्मू-कश्मीर सरकार की सहमति से राष्ट्रपति के आदेश पर जोड़ा गया. राष्ट्रपति ने 14 मई 1954 को इस आदेश को जारी किया था.
यह अनुच्छेद 370 का हिस्सा था.
अनुच्छेद 370 खत्म होने के बाद तमाम राजनीतिक दलों की अलग-अलग तरह की प्रतिक्रिया देखने को मिली |
श्री उमेशराज शेखावत का मानना है की जो फैसला मोदी सरकार ने लिया है वो सभी की भलाई के लिए ही लिया होगा क्योकि इस फैसले से सभी राज्य एक सामान हो गए है
और हमारा सविधान भी यही  कहता है
 
राम मंदिर

अयोध्या में नई सुबह हुई है। 134 साल पुराने अयोध्या मंदिर-मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया था। मुख्य न्यायाधीश रंजनगोगोई की अगुआई वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने सर्वसम्मति से यह फैसला सुनाया था। अयोध्या की 2.77 एकड़ की पूरी विवादित जमीन राम मंदिर निर्माण के लिए
दे दी गई थी। शीर्ष अदालत ने कहा कि मंदिर निर्माण के लिए 3 महीने में ट्रस्ट बने और इसकी योजना तैयार की जाए।
न्यायाधीश नेमस्जिद बनाने के लिए मुस्लिम पक्ष को 5 एकड़ वैकल्पिक जमीन दिए जाने का फैसला सुनाया है , जो कि विवादित जमीन की करीब दोगुना है। उमेशराज शेखावत का मानना है  इस  फैसले ने देश के इतिहास के सबसे अहम और एक सदी से ज्यादा पुराने विवाद का अंत कर दिया है।
 
पुलवामा एयर स्ट्राइक

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकी हमले के बाद भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के बालाकोट में घुसकर एयर स्ट्राइक की थी.
भारतीय वायुसेना ने बालाकोट में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों को निशाना बनाया था
रक्षा सूत्रों के मुताबिक इस साल फरवरी में जैश-ए-मोहम्मद के ठिकानों पर बेहद गोपनीय तरीके से एयर स्ट्राइक की गई थी. इस ऑपरेशन की गोपनीयता को बनाए
रखने के लिए भारतीय वायुसेना ने इसका कोडनेम ऑपरेशन बंदर दिया था.
ऑपरेशन बंदर इतना गोपनीय रखा गया था कि पाकिस्तान को उस समय तक इसकी भनक नहीं लगी, जब तक की भारतीय वायुसेना के मिराज विमान अपने
मिशन को अंजाम देकर भारतीय क्षेत्र में वापस नहीं लौट आए. जब पाकिस्तान को इसकी जानकारी लगी, तो वह बौखला गया था. इसके बाद पाकिस्तान ने भारतीय क्षेत्र
में हवाई हमला किया था, जिसका भारतीय वायुसेना ने भी मुंहतोड़ जवाब दिया था.
इस हवाई भिड़ंत में भारतीय वायुसेना ने पाकिस्तान के एफ-16 लड़ाकू विमान को मार गिराया था. इस दौरान भारतीय वायुसेना का विमान मिग-21 हादसे का शिकार हो गया था
और इसको उड़ा रहे पायलट विंग कमांडर अभिनंदन पाकिस्तान के कब्जे वाले इलाके में पहुंच गए थे. वहां उन पर पाकिस्तानियों ने हमला कर दिया था और फिर पाकिस्तानी सेना
ने उन्हें पकड़ लिया था. हालांकि भारत के दवाब के आगे पाकिस्तान को झुकना पड़ा था और भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन को रिहा करना पड़ा था.
राजा साहब भारतीय वायुसेना के इस हौसले भरी एयर स्ट्राइक हमले को सलाम करते  है और विंग कमांडर अभिनंदन की बहादुरी का सम्मान करते है 
 
प्रियंका रेड्डी को मिला इंसाफ 

तेलंगाना के हैदराबाद में 27 साल की एक पशु चिकित्सक के साथ कथित तौर पर यौन उत्पीड़न के बाद ज़िंदा जलाने की घटना सामने आई है।
हैदराबाद पुलिस ने इस मामले में चार लोगों को गिरफ़्तार कर लिया था पर उन का पुलिस ने एनकाउंटर कर दिया था  यह एनकाउंटर तब हुआ जब पुलिस आरोपियों को एनएच-44 पर क्राइम सीन रिक्रिएट कराने के लिए लेकर गई थी. पुलिस के मुताबिक चारों आरोपियों ने मौके से भागने की कोशिश की थी. DCP शमसाबाद प्रकाश रेड्डी ने बता कि साइबराबाद पुलिस आरोपियों को क्राइम स्पॉट पर सीन री-कन्स्ट्रक्शन के लिए ले गई थी. आरोपियों ने पुलिस से हथियार छीन लिए और उन पर फायरिंग कर दी. पुलिस ने आत्मरक्षा में आरोपियों पर फायरिंग की जिसमें आरोपियों की मौत हो गई। श्री उमेशराज शेखावत  हैदराबाद पुलिस के इस फैसले को सलाम करते है क्योकि किसी भी महिला के साथ ऐसा नहीं होना चाहिए और आरोपियों को सजा मिलनी ही चाहिए और पुलिस ने ऐसा ही किया |


Comments

Popular posts from this blog

दिल्ली की सर्द रात में महिलाओं का मोर्चा |

CAA प्रदर्शन: दिल्ली की सर्द रात में महिलाओं का मोर्चा ऐसे समय में जब दिल्ली हाल के वर्षों के ठंड के नए रिकार्ड क़ायम कर रही है, सैकड़ों महिलाएं ओखला क्षेत्र की शाहीन बाग़ कॉलोनी में खुले में बैठकर धरना दे रही हैं.नए नागरिकता क़ानून और एनआरसी के ख़िलाफ़ देश के अन्य हिस्सों में चल रहे उग्र प्रदर्शनों से एकदम अलग, यहाँ मौजूद महिलाएं देश और भारतीय संविधान की प्रशंसा में नारे लगा रही हैं.इसी बीच मंच पर कोई बांसुरी से वही पुराना और लोकप्रिय देशभक्ति गीत 'सारे जहां से अच्छा' बजाने लगता है और दर्शकों में बैठे नौजवान और वृद्ध महिलाएं इस धुन पर झूमने लगती हैं.फिर सभी राष्ट्रगान गाने के लिए उठते हैं. बाद में उसी जगह बैठ जाते हैं.यह विरोध प्रदर्शन बीते 10 दिनों से कुछ इसी तरह लगातार चल रहा है.विरोध प्रदर्शन के आयोजकों में कुछ पुरुषों को छोड़कर, अधिकतर प्रदर्शनकारी महिलाएं हैं जो नए नागरिकता क़ानून को वापस लेने की माँग कर रही हैं.साथ ही इनकी माँग है कि एनआरसी को देश में कभी लागू ना किया जाए.प्रदर्शन में आईं महिलाओं में कई गृहणियाँ हैं जो अपने घरों से बहुत कम ही बाहर निकलती हैं, देर रात मे…

आपको एसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल तो याद ही होगी?

आपको एसिड अटैक सर्वाइवर लक्ष्मी अग्रवाल तो याद ही होगी? यह वही लक्ष्मी है जिन्हें पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की पत्नी मिशेल ओबामा से साल 2014 में International Women of Courage Award मिला था. इसके साथ ही लक्ष्मी ने साल 2016 में लंदन फैशन वीक में हिस्सा लिया, कई टीवी और वेब शोज़ भी किए. इसी वजह इन्हें इंडिया की एकलौती पॉपुलर एसिड सर्वाइवर कहना गलत नहीं होगा. लेकिन अब यही लक्ष्मी अग्रवाल दर-दर की ठोकरे खाने को मजबूर हैं. उनके पास ना तो जॉब है और ना ही अपनी बेटी को पालने के लिए पैसे. दिल्ली के लक्ष्मी नगर में किराए पर दो बेडरूम घर है, जिसका किराया भी अब उनके बूते से बाहर हो गया है. जी हां. यह लक्ष्मी अग्रवाल ही हैं जो कुछ दिनों पहले तक टीवी पर छाईं रहती थीं. लेकिन अब हालत यह है कि अब वो नौकरी की तलाश में घूम रही हैं. जिसके साथ वो लिव-इन में रहीं अब उन्होंने भी लक्ष्मी और उनकी बेटी का खर्च उठाने पर हाथ खड़े कर दिए हैं. लक्ष्मी के पार्टनर आलोक दीक्षित का कहना है कि वो अब लक्ष्मी और बेटी पीहू को पैसों की कोई भी मदद नही कर सकते. साल 2005 में एक पीछा कर रहे आदमी ने लक्ष्मी पर एसिड से…

नागरिकता संशोधन क़ानून और एनआरसी विरोध (बिहार)

नागरिकता संशोधन क़ानून और एनआरसी के विरोध में 21 दिसंबर को जिस दिन राष्ट्रीय जनता दल ने बिहार बंद करवाया था , उस दिन पटना के फुलवारीशरीफ़ में हिंसा हुई थी. दो गुटों के बीच जमकर पत्थरबाज़ी हुई. फ़ायरिंग की रिपोर्टें भी आयीं. क़रीब एक दर्जन लोग घायल हुए जिन्हें इलाज के लिए एम्स और पीएमसीएच में ले जाया गया था. आमिर रोज़ की तरह सुबह घर से तैयार होकर काम करने के लिए फ़ैक्ट्री गया था लेकिन उस दिन बिहार बंद की घोषणा थी और हर तरफ़ जुलूस निकाले जा रहे थे. फ़ैक्ट्री बंद थी. वह वापस लौट आया और उसी जुलूस में शामिल हो गया जिसमें मोहल्ले के लोग शामिल थे.""जुलूस के दौरान कि जो कुछ तस्वीरें और वीडियो मिलें हैं उसमें वह हाथ में तिरंगा थामे दिखता है. वो ही उसकी आख़िरी तस्वीर थी. उसके बाद मिली तो उसकी सड़ी हुई लाश, वो भी 11 दिनों के बाद."साहिल के घर में मातम पसरा है. उनका कमाने वाला भाई हिंसा की भेंट चढ़ गया. उस हिंसा की जिससे उसका दूर-दूर तक का वास्ता नहीं था.आमिर हंज़ला उसी हिंसा के बाद से लापता थे. परिजनों ने 22 दिसंबर को फुलवारीशरीफ़ थाने में आमिर की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करायी थी…